घमंडी

 

Ghamandi

बड़े घमंडी हैं सपनें मेरे,
मेरी हकीकतों के आगे झुकने का नाम नहीं लेतें |
समझौतें हाथ बढाएं, तो अकडू थाम नहीं लेतें |

घूर कर देखते हैं मुझे,
जब अकेले में हँसता हूँ मैं उन पर |
जैसे जता रहे हों की मेरा उन पर कुछ क़र्ज़ है |
मैंने पैदा किया है तो पालना मेरा ही फ़र्ज़ है |

Continue reading “घमंडी”

Follow

Follow!

%d bloggers like this: